सिख तीर्थ स्थल


सिख सिरमौर के शासकों के निमंत्रण पर, 1695 ई में हिमाचल प्रदेश में शिवालिक पहाड़ियों पर मुगलों से लड़ने में मदद के लिए आये थे I गुरु गोविन्द सिंह जी अपनी सेना के साथ पौंटा साहिब के तलहटी में रहे थे I महाराजा रंजित सिंह के शासनकाल के दौरान 18 वीं सदी के अंत में, पश्चिमी पहाड़ी राज्यों के कई लोग भी सिख संप्रभुस्त्ता के अधीन आ गये I

पौंटा साहिब: यह सिखों के तीर्थ स्थानों में से एक प्रमुख स्थान है I यहाँ स्थित सुरम्य गुरुद्वारा सिखों के 10वें गुरु, गुरु गोविन्द सिंह जी के द्वारा सिरमौर जिले की यमुना नदी के किनारे पर बसाया गया था I

रिवालसर: रिवालसर का पवित्र गुरुद्वारा मंडी जिले की एक झील के निकट स्थित है जहाँ हिन्दू और बौद्ध धर्म के लोगों का पवित्र स्थान है I

मणिकर्ण: मणिकर्ण एक शांत और रहस्यमयी गर्म पानी के चश्में के रूप में एक पवित्र सिख तीर्थस्थान है I सिखों के पहले गुरु, गुरु नानक देव जी ने इस स्थान का भ्रमण किया था I यहाँ पर स्थित गुरुद्वारा उनकी यात्रा के यादगार के रूप में बनाया गया था जो कि आज के समय में सिखों का एक महत्वपूर्ण तीर्थस्थल बन गया है I