दà¥à¤à¤­à¤¾à¤² à¤à¤¹à¤¾à¤° व पà¥à¤°à¤¬à¤§à¤¨
 
मुख्य पृष्ठ à¤ªà¥à¤°à¤¾à¤¯à¤ पà¥à¤à¥ à¤à¤¾à¤¨à¥ वालॠपà¥à¤°à¤¶à¥à¤¨
Visitor No: 1195297

दà¥à¤à¤­à¤¾à¤² à¤à¤¹à¤¾à¤° व पà¥à¤°à¤¬à¤§à¤¨

Print Version  
Last Updated On: 05/09/2014  

प्रश्न:  मछली के तालाब का पानी कैसा दिखाना चाहिए ?

उत्तर: मत्स्य पालन में प्रयोग होने वाला पानी साफ व पारदर्शी होना चाहिए| उसमे प्रचुर मात्र में शुक्षमदर्शी पौघ, एल्गी होनी चाहिए जिसके कारण पानी का रंग हरा होता है | यह एल्गी मछली (कार्प) के लिये भोजन का कार्य करती है |

प्रश्न:  मछली के तालाब के पानी का रंग क्या दर्शता है ?

उत्तर: मछली के तालाब के पानी के रंग से उसमे पाये जाने वाले प्राकृतिक मत्स्य आहार की मात्रा का अनुमान लगाया जा सकता है| अत: पानी का रंग मत्स्य पालन आरम्भ करने में एक अहम् भूमिका निभा सकता है|

प्रश्न:  पानी को हरा करने हेतू कौन से उर्वरक  तालाब में डाले जा सकते हैं?

उत्तर: जिस प्रकार हम खेतों व बागों में खाद डालते हैं, उसी प्रकार मछली के तालाब में भी उर्व्रक की आवश्यकता  होती है | किसी भी प्रकार की जैविक खाद (गोबर, बीठ आदि) का प्रयोग किया जा सकता है|

प्रश्न:  आप गाय के गोबर का तालाब में किस प्रकार प्रयोग कर सकतें हैं |

उत्तर: गाय के गोबर की खाद को एक बोरे में भरकर तालाब में डालें | इस प्रकार उसमें मौजूद नाइट्रोजन पानी में घुल जाएगी जो हरी एल्गी को बढने में सहायक होगी |

सुगम्यता विकल्प  | Disclaimer.  | Copyright Policy.  | Hyperlinking Policy.  | Terms and Conditions.  | Privacy Policy.  | Help.