à¤à¥à¤¯à¤¾ à¤à¤°à¥à¤ à¤à¥à¤¯à¤¾ न à¤à¤°à¥à¤
 
मुख्य पृष्ठ à¤®à¤à¤²à¥ पà¤à¤¡à¤¨à¥ बारà¥
Visitor No: 1195311

à¤à¥à¤¯à¤¾ à¤à¤°à¥à¤ à¤à¥à¤¯à¤¾ न à¤à¤°à¥à¤

Print Version  
Last Updated On: 28/08/2014  
 

क्या करें, क्या न करें

एक सफल एंगलर होने के लिए यह जानना आवश्यक है कि कैसे और कहाँ ? मछ्ली पकड़े | सफलतापूर्वक मछ्ली पकड़ने के लिए नदियों तथा नालों कि इकोलाजी  के बारे मे जानकारी होनी चाहिए | दोनों ट्राउट तथा महाशीर आहार तथा प्रजनन के लिए प्रवास करती हैं | वह सहायक नदियों में प्रजनन क्षेत्रों कि तलाश में ऊपर कि तरफ तैरती हैं | इसलिए यह जरूरी है कि एंगलिग का चयन करते समय मौसम के साथ प्रजनन व्यवहार में बदलाव की जानकारी हो | बादल रहित साफ आकाश मछ्ली पकड़ने के लिए सामान्यत आदर्श स्थिति मानी जाती है | सफलतापूर्वक मछ्ली पकड़ने के लिए शान्त व ठहरा हुआ पानी चाहिए और यदि तेज हवा चल रही हो तो  कुछ नहीं किया जा सकता | भारी गरज व वारिश में मछ्ली आहार लेना बंद कर देते है इसलिए इन परिस्थितियों में मछ्ली पकड़ना बेकार है | मछ्ली पकड़ने का कार्यक्रम समूह में बनाना चाहिए | मछ्ली पकड़ने के स्थान, विश्राम गृह, लाइसैंस जारी करने वाला केन्द्र इन सभी की जानकारी पहले से एकत्रित कर लें | इससे असुविधा से बचा जा सकता है तथा स्थान पर पहुंचने के बाद बहुत सा समय बचाया जा सकता है |

1     सभी मछ्ली पकड़ने के उपकरणों को एक किट मे रखें | किट के साथ लैंडिंग नैट तथा ढेर सारी बातें ले जाना न भूलें |

2     सपुन को हमेशा पौलिस्ड रखें क्योकि मछलियाँ प्रायः चमकीली सतह की ओर आकर्षित होती है      |

3     रौड को फैले रूप में ले जाते समय उसका सिर सामने की ओर न रखे क्योंकि यह सुरक्षित नही है |       इसके बजाय उसके पीछे के भाग को सामने की ओर रखें |

4     ट्राउट को देखने पर नदी के आस-पास लगे पौधों मे फलाई को इस प्रकार फैंके मानो वह स्वाभाविक रूप से वहाँ गिरि हों | इससे मछ्ली पकड़ने की संभावना बढ़ जाती है |

5     जिस स्थान पर चोटी अंगुलिकाएं होती है उसे एंगलिग के लिए बेहतर माना जाता है | इसी प्रकार चट्टानों के नीचे झरनें, तालाब, बहता हुआ पानी गहरे तालाब आदर्श स्पॉट माने जाते है |

6     जैसे ही फलाई पानी की सतह को छूती है उसी समय ट्राउट उसे निगल लेती है | इसलिए एंगलर को तुरंत कारवाई कर अवसर का पूरा लाभ लेने के लिए तैयार रहना चाहिए |

7     सूर्य के सामने खड़े होकर मछ्ली पकड़ने से परछाई पानी मे नही पड़ती | एंगलर को परछाई को      डरा देती है |

8     हल्के उपकरण हमेशा बेहतर परिणाम देते है | एक त्वरित झटका, रौड को हिलाना –तेज व धीमी गति का एहसास प्रायः मछ्ली को आकर्षित करता है |

9     अपनी मछ्ली को पकड़ने से पहले उसे पूरी तरह थका ले और कोई जल्दबाज़ी न करें | पानी मे      छींटे न मारे इसे मछ्ली भाग सकती है |

10    मछ्ली को घर ताजा लाया जा सकता है यदि टोकरी के तल मे हरी घास बिछा दी जाए तथा मछ्ली व घास की परतें बिछाई जाए |

11    हिमाचल के जलों मे मछ्ली पकड़ने से पहले निम्नलिखित नियमो का ध्यान रखें जो हिमाचल प्रदेश मत्स्य अधिनियम 1976 में प्रदेश के मत्स्य धन की सुरक्षा हेतु बनाये गए है |

सुगम्यता विकल्प  | Disclaimer.  | Copyright Policy.  | Hyperlinking Policy.  | Terms and Conditions.  | Privacy Policy.  | Help.