विकलांगता राहत भत्ता

Last Updated On: 06/06/2013
 

उद्देश्य

अक्षम व्यक्तियों को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करना ।

पात्रता

ऐसे अपंग व्यक्ति जिन्हें व्यक्ति जिनमें अक्षमतऐं हैं (समान अवसर, अधिकारों का संरक्षण, एवं पूर्ण भागीदारी) अधिनियम 1995 की धारा 2 में अपंगता की परिभाषा के अनुसार गठित चिकित्सा बोर्ड से जिन्हें 40 से 69 प्रतिशत प्रमणित की गई हो तथा जिनके कोई  भी व्यस्क बच्चे न हो तथा वार्षिक आय समस्त स्त्रतों से 9000/-रू0 से अधिक न हो ।

अथवा

 

ऐसे  अपंग व्यक्ति जिनके विकलांगता चिकित्सा प्राधिकारी से  40 से 69 प्रतिशत प्रमणित की गई हो व जिनके माता-पिता/अभिभावक (यदि माता-पिता जीवित नहीं है)  की वार्षिक आय समस्त स्त्रोतों से 15000/- रू0 से अधिक न हो।

 

ऐसे  अपंग व्यक्ति जिनके विकलांगता चिकित्सा प्राधिकारी से  40 से 69 प्रतिशत प्रमणित की गई हो तथा जिनकी व्यक्तिगत वार्षिक आय के अतिरिक्त परिवार की वार्षिक आय समस्त स्त्रोतों से 15000/- रू0 से अधिक न हो।

 

ऐसे  अपंग व्यक्ति जिनके विकलांगता चिकित्सा प्राधिकारी से  70 प्रतिशत या इससे अधिक प्रमणित की गई हो तथा जो सरकारी/अर्ध सरकारी/निगमों/बोर्डो इत्यादि में कार्यरी न हो व अन्य किसी भी प्रकार की पैंशन प्राप्त न कर रहे हो,को बिना किसी आयु तथा आया सीमा की शर्त के अपंग राहत भत्ता के पात्र है ।

 

सहायता

450/- रू0 प्रतिमाह ।