HIMACHAL PRADESH
 
मुख्य पृष्ठ योजनाएँ अक्षम व्यक्तियों के लिये राज्य योजनाऐं
Visitor No: 706550

विकलांगजन हेतु एकीकृत योजना

Print Version  
Last Updated On: 06/06/2013  
 

(i)  सर्वेक्षण, शीघ्र पहचान एवं अनुसंधान

Survey, Early Detection and Research

उद्देश्य

विकलांगजनो का डाटा इक्ठा करना, विकलांगता की शीघ्र पहचान करवा कर निवारण के लिए आवश्यक पग उठाने तथा विकलांगता निवारण के लिए अनुसंधान करवाना ।   

पात्रता

सर्वेक्षण का कार्य आगंवाडी कार्यकर्ताओ के माध्यम से करवाया जाता है  तथा  विकलांगता की शीघ्र पहचान का कार्य स्वास्थय एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा हर वर्ष करवाया जाता है ।  अनुसंधान हेतु विश्वविद्यालय, स्वयं सेवी संस्थाऐ जो विकलांगता के अनुसंधान  क्षेत्र मे कार्य  कर रही हो वित्य सहायता के लिए पात्र है।

सहायता

अनुसंधान कार्य के लिए सम्बन्धित संस्था/संस्थान को 2.00 लाख रू तक वित्तीय सहायता दी जाती है।

 

(ii) जागरूकता

(Awareness Generation)

उद्देश्य

विकलांगता की शीघ्र पहचान, विकलांगता के निवारण, बाधा राहित वातावरण तथा सरकार द्धारा उपलब्ध करवाई जा रही सुविधाओ इत्यादि बारे जांगरूकता शिविर आयोजित करना।

सहायता

विभाग द्धारा जिला/ब्लाक स्तर पर शिविर आयोजित करके विकलांगजनों को  जागरूक किया जाता है।

 

(iii) विकलांग छात्र/छात्राओं को छात्रवृतियां

(Scholarship to Disabled Students)

उद्देश्य

विकलांग छात्र/छात्राओ को शिक्षा ग्रहण करने के लिए प्रेरित करना।

पात्रता

ऐसे विकलांग छात्र/छात्राएं जो मान्यता प्राप्त स्कूल, कालेज,विश्वविद्यालय,व्यवसायिक प्रशिक्षण केन्द्र तथा प्रोफेशनल कोर्स इत्यादि में ग्रहण कर रहे हो, जिनकी विकलांगता 40 प्रतिशत से अधिक हो तथा माता-पिता /संरक्षक की मासिक आय 5000/- से अधिक न हो ।

सहायता

पात्र छात्रों को निम्नलिखित दरों पर छात्रवृति उपलब्ध करवाई जाती है :-

    प्रथम कक्षा से स्नात्कोत्तर पाठयक्रमों के लिए 350/-रू से 750/-रू प्रति माह ।   

    छात्रावासों में रहे छात्रों को प्रथम कक्षा से स्नात्कोत्तर पाठयक्रमों के लिए 1000/-

         रू से 2000/-रू प्रति माह ।

सुगम्यता विकल्प  | अस्वीकरण  | कॉपीराइट नीति  | गोपनीयता नीति  | नियम और शर्तें  | हाइपर लिंक नीति  | मदद