एनआईसी हि. प्र. मुख्य कार्यक्रम - संग्रह

दिनांक गतिविधियां इंट्रा-निक इन्फार्मेटिक्स
28 दिसंबर 2015 देश में डिजिटल इंडिया वीक के दौरान हिमाचल प्रदेश सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्यों में से दूसरे स्थान पर रहा
03 दिसंबर 2015 एनआईसी - हि.प्र. प्रोजेक्ट्स ने हिमकोश और हिमभूमि के लिए सीएसआई निहिलेंट ई-गवर्नेंस पुरस्कार 2015 जीता
02 दिसंबर 2015 स्वयंसिद्धम शिक्षा पोर्टल, हिमाचल प्रदेश के लिए 2015 मान्यता का प्रमाण पत्र
01 दिसंबर 2015 हिमाचल प्रदेश में ऑनलाइन लर्नर और मोटर वाहनों के ड्राइविंग लाइसेंस का कार्यान्वयन और लाइसेंसिंग प्राधिकरण कार्यालय का कार्यान्वयन। जिला केंद्र के सभी एनआईसी अधिकारियों द्वारा किया जाने वाला कार्य और श्री भुपिंदर पाठक द्वारा समन्वयित किया गया।
29 नवंबर 2015 मोबाइल ऐप यूहिमाचल - हिमाचल प्रदेश वेब पोर्टल के लाइव अपडेट, आईपीआर प्रेस विज्ञप्तियां - सूचना और जनसंपर्क विभाग और ई-गज़ेट के लाइव प्रेस विज्ञप्ति - हिमाचल प्रदेश की नवीनतम राजपत्रित सूचनाओं को ऐप्पल स्टोर के लिए श्री अमित कानोजिया द्वारा और विंडोज़ ऐप स्टोर के लिए श्रीमान सर्वजीत कुमार द्वारा डिज़ाइन और विकसित किया गया
29 अक्टूबर 2015 इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज शिमला में वर्ल्ड स्ट्रोक दिवस के अवसर पर माननीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री श्री कौल सिंह ठाकुर द्वारा स्ट्रोक जागरूकता के लिए मोबाइल ऐप लॉन्च किया गया। ऐप को श्री अमित कानोजिया द्वारा डिजाइन और विकसित किया गया है
29 अक्टूबर 2015 सभी एनआईसी हिमाचल प्रदेश के अधिकारियों के लिए हिमाचल प्रदेश सचिवालय में एनआईसी पुस्तकालय की सुविधा पर एक जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया था। श्री पी.के. उपाध्याय, तकनीकी निदेशक, पुस्तकालय सूचना विभाग ने सभी एनआईसी अधिकारियों के लिए उपलब्ध ऑनलाइन पुस्तकालय की सुविधा के बारे में जानकारी दी।
05 अक्टूबर 2015 5 अक्टूबर, 2015 से 9 अक्टूबर, 2015 तक राजस्व प्रशिक्षण संस्थान, जोगिन्दरनगर में एनएलआरएमपी के तहत राजस्व और निपटान विभाग के अधिकारियों और अधिकारियों के लिए पांच दिन क्षमता निर्माण प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया। एनआईसी / एनआईसीएसआई ने संकाय और प्रशिक्षण सामग्री का आयोजन किया।
05 अक्टूबर 2015 शिमला में राज्य सरकार और एनआईसी अधिकारियों के लिए ई-ताल और ई-गव ऐप स्टोर पर एक दिवसीय कार्यशाला एनआईसी हिमाचल प्रदेश द्वारा आयोजित की गई
03 अक्टूबर 2015 आईओएस एप्पल ऐप स्टोर और विंडोज ऐप स्टोर के लिए ई-सैलरी, ई-पेंशन, एचपी फोन और ई-ट्रांसफर ऐप्स श्री अमित कानोजिया और श्री सर्वजीत कुमार द्वारा डिज़ाइन और विकसित की गई
01 अक्टूबर 2015 माननीय मुख्यमंत्री श्री वीरभद्र सिंह ने ई-जिला प्रोजेक्ट के तहत नागरिक केंद्रित सेवाएं शुरू की। राजस्व विभाग से संबंधित ई-सेवाएँ श्री संदीप सूद, प्रवीण शर्मा और सुश्री वंदना धीमान द्वारा तैयार और विकसित की गई हैं। उद्घाटन समारोह के दौरान एनआईसी-एचपी और डीआईटी-एचपी के सभी अधिकारी उपस्थित थे
23 सितंबर 2015 हिमाचल प्रदेश एनआईसी परियोजनाएं ई-एचआरएमएस ने स्कोच स्मार्ट गवर्नेंस अवार्ड और 8 स्कोच ऑर्डर ऑफ़ मेरिट अवार्ड्स 2015 जीते
19 सितंबर 2015 हिंदी पखवाड़ा के अंतर्गत हिंदी दिवस का आयोजन किया गया। जिसमें ऍन आई सी हिमाचल प्रदेश के समस्त अधिकारिओं एवं कर्मचारिओं ने विभिन्न प्रतियोगितायों में भाग लिया।
11 सितंबर 2015 एनआईसी हिमाचल प्रदेश द्वारा मछली पालन निदेशालय बिलासपुर में, आधार सक्षम बॉयोमेट्रिक अटेंडेंस सिस्टम पर एक दिवसीय प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। डिवीजन / जिला स्तर पर तैनात सभी उप निदेशकों, सहायक निदेशकों और अन्य अधिकारियों सहित 25 अधिकारियों ने इस प्रशिक्षण में भाग लिया। श्री शैलेन्द्र कौशल, राज्य एईबीएएस समन्वयक और श्री राकेश कुमार, डीआईओ बिलासपुर ने एईबीएएस के कार्यान्वयन के लिए प्रतिभागियों को प्रशिक्षण-सह-पंजीकरण प्रदान किया।
28 अगस्त 2015 राजभाषा हिंदी को कार्यालय में प्रयोग हेतु बढ़ावा देने के अंतर्गत हिंदी कार्यशाला एवं संगोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें एन आई सी के समस्त अधिकारिओं एवं कर्मचारिओं ने भाग लिया।
7 जुलाई 2015 जिला केंद्रों सहित एनआईसी हिमाचल प्रदेश ने 01 जुलाई 2015 से 07 जुलाई 2015 तक डिजिटल इंडिया सप्ताह के दौरान जागरूकता अभियान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। सभी एनआईसी अधिकारियों द्वारा पूरे राज्य में कई जागरूकता शिविर / कार्यक्रम आयोजित किये गए, जिसमें आम नागरिक, सरकारी कर्मचारी और स्कूल के बच्चों को शामिल किया गया।
8 जून 2015 एचपीटीडीसी मोबाइल एप्प पर्यटन स्थल, होटल, के बारे में जानकारी प्रदान करने के लिए कैसे हिमाचल तक पहुँचें और होटल और बसें बुक करने के लिए श्री सर्वजीत कुमार और श्री अमित कनोजिया द्वारा डिज़ाइन और विकसित की गई है।
6 जून 2015 राजभाषा हिंदी को कार्यालय में प्रयोग हेतु बढ़ावा देने के अंतर्गत हिंदी कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें एन आई सी के समस्त अधिकारिओं एवं कर्मचारिओं ने भाग लिया।
6 जून 2015 सैनिक कल्याण विभाग हमीरपुर में जीवन प्रमाण पत्र प्रणाली के कार्यान्वयन हेतु प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया। इस शिविर में निदेशक सैनिक कल्याण विभाग, सभी 10 जिला उप – निदेशकों व निदेशालयों सहित सहायकों ने भाग लिया| शिविर का आयोजन राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र, हमीरपुर की जिला इकाई द्वारा किया गया | श्री भूपिंदर सिंह सह जिला सूचना विज्ञान अधिकारी व श्री ब्रिजेश डोगरा ने जीवन प्रमाण पत्र प्रणाली के स्थापन व संचालन के बारे में विस्तृत जानकारी दी |
04 जून 2015 यह मोबाइल एप्लिकेशन, योग्यता और व्यवसाय विवरण सहित पंजीकृत आवेदक के संबंधित नियोजित एक्सचेंज पर उपलब्ध जानकारी का विवरण प्राप्त करने के लिए है। एप्प श्री दलजीत राणा द्वारा डिजाइन और विकसित की गई है।
30 मई 2015 एनआईसी हिमाचल प्रदेश वीसी मोबाइल ऐप को एनआईसी हिमाचल प्रदेश की बुकड वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग सत्र की स्थिति की जांच के लिए विकसित किया गया। ऐप श्री शैलेंद्र कौशल और टीम द्वारा डिजाइन और विकसित की गई।
29 मई 2015 विदेशी पंजीकरण पंजीकरण कार्यालय, सी फॉर्म और एस फॉर्म विवरण के सहयोग से एनआईसी जिला केंद्र द्वारा यूएनए में आयोजित आईवीएफआरटी सॉफ्टवेयर पर प्रशिक्षण कार्यक्रम को उना पुलिस स्टेशन के अधिकार क्षेत्र के भीतर होटलियों को समझाया गया, श्री पंकज गुप्ता, डीआईओ शिमला-सह-परियोजना एनआईसी हिमाचल प्रदेश के समन्वयक, आईवीएफआरटी ने इन मॉड्यूल पर विस्तृत प्रस्तुति दी और प्रतिभागियों के प्रश्नों पर प्रतिक्रिया दी। श्री संजीव कुमार और श्री अनुराग गुप्ता ने कार्यशाला का आयोजन किया।
28 अप्रैल 2015 एनआईसी एचपी स्टेट सेंटर, सीजीओ कॉम्प्लेक्स ऑफिस, शिमला में आयोजित 28 अप्रैल 2015 को एक दिवसीय एडीआईओ / डीआईए कार्यशाला। कार्यक्षेत्र के दौरान जीवन प्रामन और बॉयोमीट्रिक उपस्थिति प्रणाली सॉफ्टवेयर पर चर्चा की गई और प्रदर्शन किया गया। एडीआईओ / डीआईए ने अन्य सॉफ्टवेयर परियोजनाओं के संबंध में एसआईओ और ग्रुप हेड के साथ भी बातचीत की।
28 अप्रैल 2015 28 अप्रैल-2015 को हमीर भवन, डिप्टी कमिश्नर ऑफिस हमीरपुर में सभी होटल और संस्थाओं के लिए आईवीएफआरटी सॉफ्टवेयर पर दूसरी कार्यशाला आयोजित की गई। श्री विनोद गर्ग ने कार्यशाला का आयोजन किया।
10 मार्च 2015 एनआईसी हिमाचल प्रदेश राज्य केंद्र, शिमला में आयोजित 10 और 11 मार्च 2015 को दो दिन की डीआईओ की कार्यशाला कार्यशाला के दौरान, परिवहन और ई-प्रोक्योरमेंट सॉफ्टवेयर पर चर्चा की गई और प्रदर्शन किया गया। डीआईओ ने एसआईओ और ग्रुप हेड्स के साथ अन्य सॉफ्टवेयर प्रोजेक्ट्स के बारे में भी बातचीत की और डीआईओ और ग्रुप हेड के प्रस्तुतीकरण एनआईसी-एचपी की विभिन्न चल रही गतिविधियों पर प्रस्तुत किए गए।
31 जनवरी 2015 एनआईसी जिला केंद्र द्वारा विदेशी पंजीकरण कार्यालय और सी-फॉर्म और एस-फॉर्म विवरण के सहयोग से पुलिस अधीक्षक कार्यालय, धर्मशाला में आयोजित आईवीएफआरटी सॉफ्टवेयर पर तीसरी कार्यशाला हुई। पुलिस अधीक्षक, कांगड़ा और वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने कार्यशाला का उद्घाटन किया, कार्यशाला में लगभग 60 होटल और संस्थानों के मालिकों ने भाग लिया। श्री भूपिंदर पाठक और श्री अक्षय मेहता ने कार्यशाला का आयोजन किया।
23 जनवरी 2015 हि.प्र. के सरकारी पेंशनरों की पेंशन संबंधी सूचना के लिए ई-पेंशन मोबाइल ऐप। ऐप श्री सर्वजीत कुमार द्वारा डिजाइन और विकसित की गई।
25 दिसंबर 2014 हिमाचल प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री द्वारा शुरू की गई सूचना और जनसंपर्क विभाग की लाइव प्रेस विज्ञप्ति के लिए मोबाइल ऐप। ऐप को श्री सर्वजीत कुमार और श्री अमित कनोजिया द्वारा डिजाइन और विकसित किया गया
04 दिसंबर 2014 एनआईसी हिमाचल प्रदेश द्वारा जेलवार्ता परियोजना ने ई-गवर्नेंस श्रेणी के तहत "मंथन - दक्षिण एशिया और एशिया प्रशांत पुरस्कार 2014" जीता। यह पुरस्कार भारत के आवास केंद्र, नई दिल्ली में श्री अजय सिंह चहल, श्री संदीप सूद और श्री पृथ्वी राज नेगी ने प्राप्त किया।
01 दिसंबर 2014 वाहनों के पंजीकरण के लिए वाहन सॉफ्टवेयर और ड्राइविंग और कंडक्टर लाइसेंस जारी करने के लिए सारथी सॉफ्टवेयर स्थापित किए गए हैं और श्री विनोद गर्ग और श्री भूपिंदर सिंह द्वारा नवनिर्मित उप डिवीजन सुजानपुर में परिचालित किए जा चुके हैं
04 नवम्बर 2014 विदेश मंत्री पंजीकरण कार्यालय और सी-फॉर्म और एस-फॉर्म विवरण के सहयोग से एनआईसी जिला केंद्र द्वारा धर्मशाला पर आयोजित आईवीएफआरटी सॉफ्टवेयर पर प्रशिक्षण कार्यक्रम को श्रीमान भूपिंदर पाठक और श्री अक्षय मेहता द्वारा धर्मशाला पुलिस स्टेशन के अधिकार क्षेत्र के भीतर होटल को समझाया गया।
28 अक्टूबर 2014 कर्मचारी सेवा बुक विवरण के लिए मोबाइल एप्लिकेशन ई-एचआरएमएस और कर्मचारी स्थानांतरण आदेशों के लिए ई-ट्रांसफर श्री अमित कानोजिया द्वारा डिजाइन और विकसित की गई
02 अक्टूबर 2014 एनआईसी हिमाचल प्रदेश के सभी अधिकारियों और एसोसिएटेड स्टाफ, एनआईसी कार्यालयों सहित हि.प्र. सचिवालय, सीजीओ कॉम्प्लेक्स, सभी जिले , हि.प्र. हाईकोर्ट और हि.प्र. विधान सभा ने स्वच्छ भारत अभियान में भाग लिया।
30 सितंबर 2014 माननीय उद्योग मंत्री श्री मुकेश अग्निहोत्री ने नवनिर्मित उपविभाग हरोली में कम्प्यूटरीकृत ड्राइविंग लाइसेंस और वाहन पंजीकरण प्रमाण पत्र के लिए सारथी और वाहन का उद्घाटन किया। समारोह श्री संजीव कुमार और श्री अनुराग गुप्ता द्वारा समन्वित किया गया।
29 सितंबर 2014 देहा में नवनिर्मित उप-तहसील का उद्घाटन और उप-तहसील कुवी का तहसील में उन्नयन माननीय मुख्यमंत्री श्री वीरभद्र सिंह ने मुख्यमंत्री कार्यालय से वीडियो कांफ्रेंस में किया। दोनों तहसील में वीसी सुविधा का सेटअप, प्रबंधित और समन्वित श्री पंकज गुप्ता और दीपक कुमार द्वारा किया गया।
25 सितंबर 2014 कागज ड्राइविंग लाइसेंस पर ई-हस्ताक्षर, परिवहन विभाग के वाहन और सारथी सॉफ्टवेयर में वाहन पंजीकरण प्रमाणपत्र और मूल्य में वृद्धि पर लेख, जुलाई 2014 के परिवाहन अगली मील पत्रिका के टर्निंग व्हील सेक्शन में श्री भूपिंदर पाठक द्वारा प्रकाशित किया गया।
23 सितंबर 2014 हिंदी पखवाड़ा के अंतर्गत हिंदी दिवस का आयोजन किया गया। जिसमें समस्त अधिकारिओं एवं कर्मचारिओं ने विभिन्न प्रतियोगितायों में भाग लिया।
19 सितंबर 2014 एनआईसी हिमाचल प्रदेश द्वारा विकसित और कार्यान्वित 6 सॉफ़्टवेयर प्रोजेक्ट्स को द स्कॉच आर्डर ऑफ़ मेरिट-डिजिटल इन्क्लूज़न प्रदान किया गया।
16 सितंबर 2014 शिमला में परिवहन विभाग के अधिकारियों की कार्यशाला के दौरान वाहन, सारथी और विशेष रोड कर सॉफ्टवेयर की नई सुविधाओं का प्रदर्शन श्री ललित कपूर और श्री भूपिंदर पाठक ने किया।
12 सितंबर 2014 हि.प्र. विधान सभा की नई पुनः डिज़ाइन वेबसाइट माननीय अध्यक्ष श्री बृज बिहारी लाल बटेल द्वारा शुरू की गई।
06 सितंबर 2014 जेल वार्ता और लोक प्रामाण पत्र का लोगो श्री सर्वजीत कुमार द्वारा डिजाइन किया गया।
01 सितंबर 2014 श्री सर्वजीत कुमार द्वारा एंड्रॉइड डिवाइसों पर डाउनलोड करने के लिए मोबाइल ऐप हि.प्र. सरकारी वेबसाइट के मोबाइल ऐप स्टोर पेज पर उपलब्ध है।
27 अगस्त 2014 हि.प्र. राज्य कानूनी सेवा प्राधिकरण की वेबसाइट माननीय श्री जस्टिस मंसूर अहमद मीर, हि.प्र. उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश द्वारा शुरू की गई।
26 अगस्त 2014 हिमाचल प्रदेश की नवीनतम राजपत्रित सूचनाओं के लिए मोबाइल ऐप श्री अमित कनोजिया द्वारा डिजाइन और विकसित की गई।
22 अगस्त 2014 हिमाचल प्रदेश वेब पोर्टल के लाइव अपडेट के लिए मोबाइल ऐप श्री अमित कनोजिया द्वारा डिजाइन और विकसित की गई
20 अगस्त 2014 श्री अजय सिंह चहल, श्री संदीप सूद और श्री संजय कुमार द्वारा नई दिल्ली में स्कॉच डिजिटल इनवर्जन अवार्ड्स 2014 के लिए जूरी सदस्यों को 6 परियोजनाओं की प्रस्तुति प्रस्तुत की गई।
20 अगस्त 2014 नई दिल्ली में श्री ललित कपूर और श्री पृथ्वी राज नेगी ने ई-प्रोक्योरमेंट प्रशिक्षण और संगोष्ठी में भाग लिया।
15 अगस्त 2014 इलेक्टोरल रोल मैनेजमेंट सिस्टम (ईआरएमएस) के लिए एचपी सिविल सर्विसेज अवार्ड 2014 - श्री अजय सिंह चहल, श्री संदीप सूद और श्रीमती वंदना धीमान को प्रशंसा प्रमाणपत्र दिए गए।
14 अगस्त 2014 आईसीजेएस हिमाचल की वेबसाइट http://isjshimachal.nic.in पर श्री सर्वजीत कुमार द्वारा डिजाइन, विकसित और होस्ट की गई।

नवीनतम मुख्य कार्यक्रम