वर्ष 2016-17 में एनआईसी हिमाचल प्रदेश द्वारा जीते गए पुरस्कार


डिजिटल भुगतान पहल की दिशा में अनुकरणीय सेवाओं के लिए डीआईओ, बिलासपुर, हिमाचल प्रदेश के लिए प्रशंसा प्रमाण पत्र

नई दिल्ली में 19 जनवरी 2017 को नेशनल ग्रास -रुट इन्फार्मेटिक्स मीट के दौरान श्री रवि शंकर प्रसाद, सूचना प्रौद्योगिकी, कानून और न्याय के माननीय केंद्रीय मंत्री ने श्री राकेश कुमार, जिला सूचना विज्ञान अधिकारी, बिलासपुर, एनआईसी हिमाचल प्रदेश को डिजिटल भुगतान की पहल के प्रति उनकी अनुकरणीय सेवाओं के लिए प्रशंसा प्रमाण पत्र और स्मृति चिन्ह से सम्मानित किया, श्री पी.पी. चौधरी, आईटी , विधि और न्याय, के राज्य मंत्री, सुश्री अरुणा सुंदरराजन, सचिव, एमईआईटीवाई, डा. अजय कुमार, अतिरिक्त सचिव, एमईआईटीवाई, डॉ नीता वर्मा, महानिदेशक, एनआईसी, राज्य केन्द्रों के राज्य सूचना अधिकारी / अतिरिक्त राज्य सूचना विज्ञान अधिकारी और देश भर से डीआईओ /ऐडीआईओ 19-21 जनवरी 2017 से आयोजित तीन दिवसीय राष्ट्रीय मीट के दौरान उपस्थित थे। .

20th National Conference on e-Governances

एनआईसी हिमाचल प्रदेश के चयनित पत्र संग्रह में से लिखे गए दो पत्र प्रकाशित किए गए और एक कागज सर्वोत्तम पत्र के रूप में चयनित किया गया

दो कागजात एनआईसी हिमाचल प्रदेश के अधिकारियों द्वारा लेखक वर्ष 2016-17 के 20वें राष्ट्रीय ई-शासन सम्मेलन के चयनित पत्र संग्रह में प्रकाशित किये गए है। एक कागज सबसे अच्छे कागज के रूप में चयनित किया गया और सीरियल नंबर 1 पर प्रकाशित किया गया है और पत्रों के लिए सभी प्राप्त प्रविष्टियों में से चयनित 10 कागजात के संग्रह में से एक अन्य कागज सीरियल नंबर 3 पर प्रकाशित किया गया है।

ई-गवर्नेंस पर राष्ट्रीय सम्मेलन प्रशासनिक सुधार विभाग और लोक शिकायत (डीएआरपीजी) द्वारा आयोजित किया गया है, भारत सरकार हर साल और सम्मेलन का 20वां संस्करण 9 और 10 जनवरी, 2017 को आंध्र प्रदेश में विशाखापत्तनम में आयोजित किया गया।

आंध्र प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री श्री नारा चंदर बाबू नायडू ने अगस्त में सम्मेलन के उद्घाटन सत्र के दौरान माननीय केंद्रीय मंत्री शहरी विकास गरीबी उन्मूलन और सूचना प्रसारण श्री एम. वेंकटय्या नायडू, प्रशासनिक सुधार और लोक शिकायत के माननीय राज्य मंत्री श्री जितेंद्र सिंह, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान राज्य के माननीय केंद्रीय मंत्री श्री वाई एस चौधरी की उपस्थिति में, कॉम्पेंडियम ऑफ़ सिलेक्टेड पेपर्स नामक पुस्तक जारी की।

इन पत्रों के टाइटल और लेखक है:

शीर्षक लेखक
डिजिटल इंडिया के लिए साइबर सुरक्षा नीति - सुरक्षित साइबर स्पेस के लिए रोडमैप जगदीश चंद्र शर्मा आईएएस
अजय सिंह चहल
शैलेंद्र कौशल
हिमाचल प्रदेश के परिवहन विभाग में डिजिटल परिवर्तन: अंतिम मील ग्रामीण आबादी तक पहुँचना डॉ सुनील कुमार चौधरी आईएएस
अजय सिंह चहल
भूपेन्द्र पाठक

Digital India eGovernance Awards

एनआईसी हिमाचल प्रदेश के मध्याह्न भोजन की मोबाइल एप्लीकेशन के लिए डिजिटल इंडिया अवार्ड 2016

विज्ञान भवन, नई दिल्ली में पुरस्कार की प्रस्तुति समारोह के दौरान 19 दिसंबर 2016 को एनआईसी हिमाचल प्रदेश की मिड डे मील मोबाइल एप्लिकेशन को डिजिटल इंडिया गोल्ड अवार्ड 2016 से सम्मानित किया गया।

श्री रवि शंकर प्रसाद, इलेक्ट्रानिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी, विधि और न्याय के माननीय केन्द्रीय मंत्री, श्री पी.पी. चौधरी, इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी, विधि और न्याय, राज्य के माननीय मंत्री की उपस्थिति में इन पुरस्कारों से सम्मानित किया। सुश्री अरुणा सुंदरराजन, सचिव, एमईआईटीवाई, डॉ चिनद्रम, प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार भारत सरकार, डॉ अजय कुमार, अपर सचिव, एमईआईटीवाई और सुश्री नीता वर्मा, महानिदेशक एनआईसी सम्मान के अतिथि थे।

पुरस्कार प्रधान सचिव(आईटी), हिमाचल प्रदेश सरकार, प्राथमिक शिक्षा, हिमाचल प्रदेश के निदेशक और एनआईसी के राज्य सूचना अधिकारी के नेतृत्व में हिमाचल प्रदेश की टीम द्वारा प्राप्त किया गया। एमडीएम मोबाइल एप्लिकेशन की टीम के सदस्य है श्री मनमोहन शर्मा, श्री आशीष कोहली, श्री नरेश शर्मा, श्री अजय सिंह चहल, श्री ललित कपूर, श्री संदीप सूद, श्री संजय कुमार, श्री संजय शर्मा, श्री संदीप कुमार, श्री आशीष शर्मा, श्री सी एल कश्यप, श्री सर्वजीत कुमार और श्री अमित कनौजिया। मिड-डे मील मोबाइल एप्लिकेशन प्रभावी रिपोर्टिंग और दैनिक और मासिक मिड-डे मील डेटा की निगरानी के लिए स्कूलों द्वारा भेजा जाना है। एप्लिकेशन एमडीएम प्रभारी/शिक्षक के लिए अतिरिक्त डेटा संचार तंत्र प्रदान करता है जिन्हें एसएमएस का उपयोग करके दैनिक/मासिक डेटा भेजना है। एप्लिकेशन, एक बार एंड्रॉयड डिवाइस पर स्थापित हो जाए, एमडीएम आंकड़े भेजने के लिए इंटरनेट की जरूरत नहीं है उपयोगकर्ता के पास एप से एसएमएस के माध्यम से आंकड़ा भेजने का विकल्प है। यह एमडीएम प्रभारी, जिन्हें एसएमएस स्वरूपों को याद करने की भी जरुरत नहीं है, का काम सरल करता है। ब्लॉक, जिला और राज्य स्तर पर उच्च अधिकारियों के पास मोबाइल उपकरणों पर इस एप्लिकेशन के आकार में एक दैनिक के प्रभावी और कुशल निगरानी के साथ ही अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले सब प्रभारी एमडीएम द्वारा मासिक आंकड़ा संचरण उनके के लिए बहुत ही सरल और प्रभावी तंत्र है। निगरानी के अधिकारी एप में उपलब्ध एक बटन का उपयोग करके सभी बकाएदारों को एसएमएस अलर्ट भेज सकते हैं।

यह सभी राज्यों / संघ राज्य क्षेत्रों के लिए एक एकल एंड्रॉयड मोबाइल एप्लिकेशन है, बहुभाषी है और यह ऑफलाइन भी काम करती है। वर्तमान में, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, उत्तराखंड, मिजोरम, चंडीगढ़, दमन एवं दीव के 7 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में यह उपयोग कर रहे हैं और मध्य प्रदेश, मेघालय, केरल, दादर और नगर हवेली सॉफ्टवेयर बोर्ड पर हैं। एमडीएम सॉफ्टवेयर http://mdmhp.nic.in पर उपलब्ध है मिड डे मील मोबाइल एप्लिकेशन एमआईएस सॉफ्टवेयर एमडीएम स्वचालित रिपोर्टिंग और प्रबंधन प्रणाली-एमडीएम एआरएमएस की आपूर्ति करता है, यह भी एक उत्पाद के रूप में एनआईसी हिमाचल प्रदेश द्वारा विकसित किया गया है और मिड डे स्कूलों में छात्रों को परोसा भोजनडेटा संग्रह के प्राथमिक साधन के रूप में एसएमएस मोड का उपयोग करके इच्छुक किसी भी राज्य सरकार द्वारा उपयोग किया जा सकता है।


Skoch Smart eGoivernance Awards

सारथी: एनआईसी की ऑनलाइन ड्राइविंग लाइसेंस प्रणाली प्रोजेक्ट ने 2016 स्कॉच स्मार्ट गवर्नेंस गोल्ड अवार्ड जीता I यह पुरस्कार 8-9 सितम्बर 2016 को हैदराबाद इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर, हैदराबाद में आयोजित 45वें स्कॉच सम्मलेन के दौरान 9 सितम्बर 2016 को स्कॉच फाउंडेशन द्वारा सम्मानित किया गया I सारथी 4.0 सॉफ्टवेर एनआईसी की टीम के द्वारा विकसित किया गया है और हिमाचल प्रदेश भारत का पहला राज्य है जिसने सभी पंजीकरण और लाइसेंस के अधिकारिओं के लिए सॉफ्टवेर को लागू किया है और बाकि के राज्यों में भी इसके कार्यान्वयन अनुसरण कर रहे है I

श्री संजय कुमार- एसएसए, श्री आशीष शर्मा- एसए, श्री संजय शर्मा- पीएसए और श्री मंसूर हक़, तकनीकी निदेशक ने स्कॉच पुरस्कार प्राप्त किया I

एनआईसी हिमाचल प्रदेश ने 14 प्रोजेक्टों के लिए 8 सितम्बर 2016 को हैदराबाद में आयोजित 45वें स्कॉच सम्मलेन के दौरान मेरिट पुरस्कार प्राप्त किए और यह सब श्री अजय सिंह चैहल वरिष्ठ तकनिकी निदेशक एवं राज्य सूचना विज्ञान अधिकारी हिमाचल प्रदेश जी के वरिष्ट नेतृत्व और मार्गदर्शन द्वारा कार्यान्वित हुआ है I

क्र. सं. प्रोजेक्ट एनआईसी टीम
1 सारथी - ऑनलाइन ड्राइविंग लाइसेंस सिस्टम श्री भूपेन्द्र पाठक, पीएसए एवं डीआईओ काँगड़ा और एनआईसी राष्ट्रीय स्तर की टीम
2 ई-बचत - लघु बचत एजेंट मैनेजमेंट सिस्टम श्री अखिलेश भारती, पीएसए एवं डीआईओ मंडी
3 रेड क्रॉस मैनेजमेंट इनफार्मेशन सिस्टम श्री अक्षय मेहता, एसएसए एवं डीआईए काँगड़ा
4 डॉक्यूमेंट मैनेजमेंट सिस्टम श्री संजीव कुमार, एसएसए एवं डीआईओ ऊना
5 रोहतांग पास परमिट एमआईएस श्री ललित कपूर, तकनिकी निदेशक और श्री आशीष शर्मा, एसए
6 सर्कल रेट्स एमआईएस श्री ललित कपूर, तकनिकी निदेशक और श्री संदीप सूद, पीएसए
7 ई-एसआरटी (स्पेशल रोड टैक्स) श्री ललित कपूर, तकनिकी निदेशक और श्री पृथ्वीराज नेगी प्रोग्रामर
8 हिमाचल प्रदेश टेली-स्ट्रोक मोबाइल एप श्री संदीप सूद, पीएसए और श्री अमित कनोजिया, प्रोग्रामर
9 सिंगल विंडो इंटरफ़ेस - सामान्य आवेदन प्रपत्र श्री संजय कुमार, पीएसए और श्री संदीप कुमार, एसएसए
10 ई-समीक्षा श्री संजय कुमार, पीएसए और श्री संजय कुमार ठाकुर, एसएसए
11 मुख्यमंत्री सन्दर्भ एमआईएस श्री संजय कुमार, पीएसए और श्री संजय कुमार ठाकुर, एसएसए
13 ई-बिल श्री विजय गुप्ता, पीएसए और श्री दलजीत सिंह राणा, एसएसए
13 हिमाचल प्रदेश प्रपत्र भंडार श्री संजय कुमार, पीएसए और श्री सर्वजीत कुमार, प्रोग्रामर
14 परीक्षा प्रोसेसिंग सिस्टम श्री संजय शर्मा पीएसए और श्री सर्वजीत कुमार, प्रोग्रामर

श्री रितेश चौहान आईएएस उपायुक्त काँगड़ा, श्री भूपिंद्र पाठक पीएसए, अक्षय मेहता एसएसए , श्री आशीष शर्मा एसए, श्री संजय शर्मा पीएसए ने स्कॉच मेरिट पुरस्कार प्राप्त किए I

श्री आशीष शर्मा एसए, श्री भूपिंदर पाठक पीएसए, श्री संजय ठाकुर एसएसए, श्री संजीव कुमार एसएसए ने स्कॉच आर्डर मेरिट पुरस्कार प्राप्त किए I

एचआईसीसी हैदराबाद में आयोजित 45वें स्कॉच शिखर सम्मलेन में एनआईसी हिमाचल प्रदेश के प्रतिभागी अपने स्कॉच आर्डर ऑफ़ मेरिट दिखाते हुए I 2 स्कॉच स्मार्ट गवर्नेंस गोल्ड पुरस्कार और 15 स्कॉच आर्डर ऑफ़ मेरिट से हिमाचल प्रदेश के ई- गवर्नेंस प्रोजेक्ट्स को सम्मानित किया गया I



एनआईसी हिमाचल प्रदेश ने पिछले कुछ वर्षों में आईसीटीओ पहले के लिए बहुत से पुरस्कार हासिल किए हैं और इन सभी स्तरों पर एनआईसी हिमाचल प्रदेश के सभी अधिकारीयों की सक्रीय भागीदारी के साथ संभव हुआ है I

हिमाचल प्रदेश द्वारा जीते हुए पिछले पुरस्कार

साल सम्मलेन स्थान पुरस्कार विवरण
2015 पीसीक्वेस्ट पुरस्कार हैदराबाद पीसीक्वेस्ट वर्ष 2016 का सर्वश्रेष्ठ सूचना प्रौद्योगिकी कार्यान्वयन
19वां राष्ट्रीय ई गवर्नेंस अवार्ड नागपुर गोल्ड चिन्ह एकीकृत ऑनलाइन होटल आरक्षण प्रणाली के लिए जीता
कागज पर संग्रह में प्रकाशित भारत में ई-गवर्नेंस – बदलते समय के साथ जन सहभागिता बढ़ाना
कागज पर संग्रह में प्रकाशित हिमाचल प्रदेश में ई-गवर्नेंस के दस वर्ष परिवहन विभाग - डिजिटल इंडिया की ओर अग्रसर
डिजिटल इंडिया ई-गवर्नेंस पुरस्कार नई दिल्ली देश में डिजिटल इंडिया वीक के दौरान सबसे बेहतर स्टेट प्रदर्शन में दूसरे स्थान के लिए डिजिटल इंडिया ई-गवर्नेंस पुरस्कार प्राप्त किया
50वीं सीएसआई कन्वेंशन नई दिल्ली हिमकोश और हिमभूमि के लिए सीएसआई निहिलेंट ई-गवर्नेंस पुरस्कार
मंथन पुरस्कार नई दिल्ली स्वयंसिद्धम परियोजना के शिक्षा पोर्टल के लिए मान्यता पुरस्कार का मंथन प्रमाणपत्र
स्कॉच पुरस्कार नई दिल्ली मानव संपदा ई-एचआरएमएस स्मार्ट गवर्नेंस अवार्ड - 2015 और 8 परियोजनाओं ने मेरिट स्कॉच आदेश जीता
2014 मंथन पुरस्कार नई दिल्ली मंथन एशिया प्रशांत और जेल वार्ता के लिए दक्षिण एशिया 2014 पुरस्कार-रिश्तेदारों के साथ कैदी वीडियो सम्मलेन
  स्कॉच पुरस्कार नई दिल्ली एनआईसी हिमाचल प्रदेश की परियोजनओं के लिए 6 स्कॉच आदेश मेरिट 2014 पुरस्कार
  18वां राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस सम्मलेन गाँधी नगर कागज पर संग्रह में प्रकाशित केस स्टडी-इम्पैक्ट ऑफ़ इंडस्ट्री पार्टनरशिप इन सर्विस डिलीवरी चैनल्स ऑफ़ लैंड रिकॉर्ड इन हिमाचल प्रदेश
2013 48वां सीएसआई सम्मलेन विशाखापटनम सीएसआई निहिलेंट अंतर-प्रचलित आपराधिक न्याय प्रणाली के लिए उत्कृष्टता 2013 पुरस्कार
हिमाचल प्रदेश राज्य के लिए सीएसआई निहिलेंट उत्कृष्टता अवार्ड 2013
  मंथन पुरस्कार नई दिल्ली हिमाचल प्रदेश के एकीकृत भू-अभिलेख कम्प्यूटरीकरण के लिए - मंथन एशिया प्रशांत और हिमभूमि के लिए दक्षिण एशिया 2013 पुरस्कार
  17वां राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस सम्मलेन कोच्ची अंतर-प्रचलित आपराधिक न्याय प्रणाली-एक केस स्टडी के माध्यम से न्याय की तेजी व्यवस्था की वास्तविकता के लिए ई-गवर्नेंस विजन कागज पर संग्रह में प्रकाशित
2012 47वां सीएसआई कन्वेंशन कोलकता उत्कृष्टता पुरस्कार जी2ई श्रेणी में: मानव सम्पदा
  16वां राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस सम्मेलन जयपुर हिमाचल प्रदेश में ई-गवर्नेंस इंफ्रास्ट्रक्चर की स्थिति और चुनौतियां की केस स्टडी पर कागज पर संग्रह में प्रकाशित
2010 प्रथम वेब रत्न नेशनल कांफ्रेंस दिल्ली गोल्ड आइकॉन - नागरिक केन्द्रित सेवा वितरण - हिमाचल प्रदेश पुलिस पोर्टल
गोल्ड आइकॉन - व्यापक वेब उपस्थिति - राज्य: हिमाचल प्रदेश सरकार वेब-पोर्टल
गोल्ड आइकॉन - राष्ट्रीय पोर्टल के लिए एनआईसी समन्वयक- श्री अजय सिंह चैहल, तकनीकी निदेशक एनआईसी हिमाचल प्रदेश
2009 12वां राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस सम्मलेन गोवा कांस्य आइकॉन - सरकार प्रोसेस पुनर्रचना के लिए व्यावसायिक उत्कृष्टता: ई-गजेट
कांस्य-आइकॉन - नागरिक केन्द्रित सेवा प्रदान करने में उत्कृष्ट: हिमाचल प्रदेश पुलिस पोर्टल
2007 10वां राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस सम्मलेन भोपाल कांस्य आइकॉन - सरकार प्रोसेस पुनर्रचना के लिए व्यावसायिक उत्कृष्टता: दोहरी प्रविष्टि लेखा प्रणाली
2006 9वां राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस सम्मलेन कोच्ची गोल्डन आइकॉन - प्रक्रिया पुनर्रचना (नए प्रवेश श्रेणी) के लिए व्यावसायिक उत्कृष्टता –हिमरिस
गोल्डन आइकॉन- अभिनव संचालन और उत्तम आचरण (व्यवसायिक श्रेणी) - ई-पेंशन
2005 8वां राष्ट्रीय ई- गवर्नेंस सम्मलेन भुवनेश्वर रजत आइकॉन - प्रक्रिया पुनर्रचना(व्यवसायिक श्रेणी) के लिए व्यवसायिक उत्कृष्टता: रेफ्निक
गोल्डन आइकॉन - अभिनव संचालन और उत्तम आचरण (नई प्रवेशी श्रेणी): ई-विकास
2003 7th7वां राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस सम्मलेन चेन्नई कांस्य आइकॉन - अनुकरणीय ई- गवर्नेंस पहल: लोकमित्र
2002 6ठी राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस सम्मलेन चंडीगढ़ रजत आइकॉन - ई-गवर्नेंस के लिए सर्वश्रेष्ठ वेबसाइट: http://himachal.nic.in