ईसाई तीर्थ स्थल


ईसाई धर्म हिमाचल प्रदेश में अंग्रेजों के आने के बाद अस्तित्व में आये I यहाँ पर स्थित गिरिजाघर 150 वर्ष से अधिक पुराने नहीं हैं I ब्रिटिश राज के अवशेष -ऊँचे गिरिजाघर मुख्यत: छोटे छोटे पहाड़ी इलाकों में मिलते है जहाँ ब्रिटिशों ने अपनी ग्रीष्मकालीन आवास बनाये थे I

कसोली: कसोली अभी भी उतना ही अमलिन और खूबसूरत है जैसा ब्रिटिश इससे 50 वर्ष पहले छोड़ कर के गये थे I यहाँ एक पुराना गिरिजाघर है, ईसाई गिरिजाघर पारम्परिक अंग्रेजी ढांचे पर बना हुआ है I इसकी नीवें 1844 ई में रखी गयी थी I

शिमला: शिमला के रिज पर स्थित यह गिरिजाघर अपने विशालकाय शिखर से प्रसिद्ध है I इसका विशालकाय शिखर शिमला से 8 कि.मी. दुरी पर स्थित तारा देवी से ही दिखना शुरू हो जाता है I 1844 में इस गिरिजाघर का निर्माण किया गया जब शिमला भारत के एक मुख्य पर्यटक स्थल के रूप में सामने आने लगा I ईसाई गिरिजाघर का निर्माण इस उदेश्य से किया गया की यहाँ पर स्थित सभी ईसाई एक साथ मिल कर समागम कर सकें I कांच की खिडकियों पर बने यादगार चिन्हों से गिरिजाघर के अंदर प्रकाश हो जाता है I पहले सेंट् मिचेल गिरिजाघर का निर्माण शिमला के निचले बाज़ार के पश्चिमी छोर पर 1850 में किया गया I बाद में यह एक वास्तुकला का एक अद्भुत नमूना बन गया I

धर्मशाला: पत्रों से बना हुआ सेंट् जान गिरिजाघर "मेक्लेओद्गंज और फोर्स्त्यग्न्ज" के बीच वाहन योग्य सड़क पर निचली धर्मशाला से 8 कि.मी. की दुरी पर स्थित है I यहाँ भारत के वायस राय लार्ड एल्गिन का एक स्मारक है जिनको यहाँ दफनाया गया है I

डलहौजी: चंबा स्थित डलहौजी एक अन्य पहाड़ी इलाका है, जहाँ अनेक पुराने गिरिजाघर हैं I मुख्य डाकघर के समीप स्थित गिरिजाघर अभी भी समय से अछुता है I इसकी पष्टकोनियों स्लेटों से बनी हुई खुबसूरत कोणीय छत है I सुभाष चाक के समीप ऊँचे चीड़ के पेड़ों के बिच स्थित सेंट् फ्रांसिस का कथेलिक गिरिजाघर सन 1894 में बना था I