बौद्ध तीर्थस्थल


लाहौल-स्पिति व किन्नौर की दूरवर्ती घाटियों में बौद्ध परम्पराओं की मान्यता है I यहाँ के पहाड़ों में बहुत ही सुंदर बौद्ध मठ बनाये गये है जो कि बहुत लुभावने लगते है I यह बौद्ध धर्म की कला व साहित्य की समृद्ध विरासत है I इनके अन्दर बहुत सुंदर पुरातन कलाकृतियाँ हैं जिन्हें चटकीले रंगों से बनाया गया है I यह कलाकृतियाँ बहुत ही आकर्षक ढांचों में सजाई गयी हैं जिनके किनारों पर रेशमी धागे से सुंदर किनारियाँ बनाई गयी है I

धर्मशाला, जहाँ महामहिम दलाई लामा निर्वासित जीवन व्यतीत कर रहे हैं एक अद्भुत तिब्बतियन शहर बन गया है, जहाँ तिब्बतियन संस्कृति पल्लवित हो रही है I यह वह केंद्र है जो शोधकर्ताओं और धार्मिक पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है I

रिवालसर: रिवालसर शायद बौद्धों का सबसे धार्मिक स्थल है I यह स्थान मंडी से 20 कि.मी. दूर उत्तर पश्चिम में स्थित है I एक जनश्रुति के अनुसार गुरु पद्मसंभव यहाँ से बौद्ध धर्म का प्रचार करने के लिए तिब्बत गये थे I यहाँ झील के किनारे पैगोड़ा शैली का एक बहुत ही सुंदर मठ है I

गुरु घंटाल मठ (3020 मि ):यह मठ चन्द्र-भागा नदी के दाहिने तट पर 4 कि.मी. की दूरी पर है जो कि लकड़ी से बना लाहौल-स्पिति का सबसे पुराना गोम्पा है जिनकी छतें शिखर शैली की बनी हुई हैं, जिन पर लकड़ी की सुंदर नकाशी की हुई है I यहाँ गुरु पद्मसंभव और ब्रिजेश्वरी देवी की मूर्तियाँ स्थापित की गयी हैं I जून के मध्य पूर्णिमा की रात को बौद्ध और ठाकुरों द्वारा संयुक रूप में एक महोत्सव मनाया जाता है जिसे "घंटाल" कहते हैं I

कर्दंग मठ (3500 मि ): यह मठ भागा नदी को पार कर केलोंग से 5 कि.मी. की दूरी पर स्थित है I एक विश्वास है की यह मठ 12वीं शताब्दी में बनाया गया है I इस मठ में एक बहुत ही विशाल पुस्तकालय है जहाँ पर क्कन्ग्युर व त्न्ग्युर लिपि में बौद्ध साहित्य से तालुक रखने वाली पुस्तकें भोटी लिपि में लिखी गयी हैं I कर्दंग गाँव एक समय में लाहौल-स्पिति की राजधानी भी रहा है I

शशुर मठ: यह एक पहाड़ी पर केलोंग से उत्तर की ओर 3 कि.मी. की दूरी पर स्थित है I जून-जुलाई के महीने में यह मठ आकर्षण का केंद्र बन जाता है, जहाँ हज़ारों की संख्या में दर्शक दैत्य नृत्य देखने के लिए आते हैं I इस की स्थापना 17वीं शताब्दी में हुई है I यहाँ पर स्थापित कलाकृतियों में 84 बौद्धों का इतिहास दर्शाया गया है I

त्युल गोम्पा (3900 मि ): केलोंग से 6 कि.मी. स्थित तयुल गोम्पा घाटी की सब से पुरानी मठों से एक है I यह स्थान यहाँ स्थित गुरु पद्मसंभव की लगभग 5 मी. ऊँची मूर्ति तथा क्युंगर पुस्तकालय के लिए प्रसिद्ध है I तिब्बतियन भाषा में तयुल का अर्थ है "चुना हुआ स्थल" इसके पीछे एक रोचक कथा भी है I

की मठ: यह स्थान काजा से 12 कि.मी. उत्तर में स्थित, स्पिति घाटी की पश्चिम घाटी के लोगों को समर्पित है I यह मठ घाटी के सबसे पुराने और बड़े मठों में शुमार है तथा की गाँव के उपर स्थित है I यहाँ बौद्ध धर्म से सम्बंधित पुस्तकें तथा भगवान बौद्ध और अन्य देवियों की कलाकृतियाँ हैं I लामा यहाँ नृत्य, संगीत और वाद्य यंत्र बजाने का अभ्यास करते हैं I लामाओं को यहाँ धार्मिक प्रशिक्षण दिया जाता है I यहाँ नैतिक आदर्शों से सम्बंधित पुस्तकें और मुखोटों का संग्रहण भी है I

थांग युंग गोम्पा: यह गोंपा काजा से लगभग 13 कि.मी. उत्तर में स्थित है तथा स्पिति के मध्य भाग के लोगों को समर्पित है I काजा नालो की संकरी घाटी के किनारे एक सुनसान और शांत जगह पर स्थित इस मठ में प्राय: तिब्बत से आये हुए बौद्ध भिक्षु रहते हैं I इसके ऊपर एक लम्बा पठार स्थित है जो कि शिल्ला चोटी की ओर जाता है I

कुंगरी गोम्पा: अत्तार्गों से लगभग 10 कि.मी. दूर पिन घाटी में स्थित इस गोम्पे तक पहुंचने के लिए स्पिति नदी को पार करना पड़ता है I यह गोम्पा पिन घाटी के लोगों को समर्पित है I

धनखड़ मठ:यह मठ काजा के लगभग कि.मी. पूर्व में स्थित है तथा मध्य स्पिति के पूर्वी भाग को समर्पित है I धनखड़ जो कि एक बड़ा गाँव है तत्कालीन स्पिति राज्य की राजधानी रही है I यहाँ पहाड़ी की चोटी पर एक किला है जहाँ पुराने समय में कारागार हुआ करती थी I इस मठ में लगभग 100 लामा रहते हैं तथा यहाँ भोटी भाषा के बौद्ध धर्म के साहित्य सुरक्षित हैं I यहाँ का मुख्य आकर्षण "बैरोचन" की प्रतिमा है जिसमें पीठ से पीठ जोड़े हुए भगवान बुद्ध की चार आकृतियाँ हैं I यहाँ कलाकृतियों और चित्रकला के रूप में कुछ अवशेष भी हैं I

ताबो मठ:पूर्वी जनसंख्या को समर्पित यह एक अन्य अति प्रसिद्ध और बड़ा मठ है Iयह 10वीं शताब्दी में बनाया गया था तथा काजा से 50 कि.मी. की दूरी पर स्थित है I तिब्बत में थोलिंग गोम्पा के बाद इसकी प्रसिद्धी दूसरे स्थान पर आती है I यहाँ 60 बौद्ध भिक्षु रहते हैं I यहाँ बौद्ध साहित्य जो अजन्ता चित्रकलाओं से समानता रखते हैं का एक बहुत बड़ा संग्रह है I

नाको: गुरु पद्मसंभव के प्रसिद्ध पद चिन्ह लौत्साबाद मठ में संग्रहित हैं I किन्नौर जिले में ऊँचाई पर स्थित यह गाँव पारदर्शी झील के समीप स्थित है I

त्शिगंग गोम्पा: त्शिगंग गोम्पा पहुँचने के लिए खाब से न्यंग होते हुए पैदल रास्ते से जाना पड़ता है I

तिलासंघ मठ: याँग थांग से 12 कि.मी. पहले, का से 1 कि.मी. का पैदल रास्ता है I