Inspirational Contexts

किसी जंगल मे एक गर्भवती हिरणी थी जिसका प्रसव होने को ही था . उसने एक तेज धार वाली नदी के किनारे घनी झाड़ियों और घास के पास एक जगह देखी जो उसे प्रसव हेतु सुरक्षित स्थान लगा. अचानक उसे प्रसव पीड़ा शुरू होने लगी, लगभग उसी समय आसमान मे काले काले बादल छा गए और घनघोर बिजली कड़कने लगी जिससे जंगल मे आग भड़क उठी .
वो घबरा गयी उसने अपनी दायीं और देखा लेकिन ये क्या वहां एक बहेलिया उसकी और तीर का निशाना लगाये हुए था, उसकी बाईं और भी एक शेर उस पर घात लगाये हुए उसकी और बढ़ रहा था अब वो हिरणी क्या करे ?,
वो तो प्रसव पीड़ा से गुजर रही है ,
अब क्या होगा?,

क्या वो सुरक्षित रह सकेगी?,
क्या वो अपने बच्चे को जन्म दे सकेगी ?,
क्या वो नवजात सुरक्षित रहेगा?,
या सब कुछ जंगल की आग मे जल जायेगा?,

अगर इनसे बच भी गयी तो क्या वो बहेलिये के तीर से बच पायेगी ?
या क्या वो उस खूंखार शेर के पंजों की मार से दर्दनाक मौत मारी जाएगी?
जो उसकी और बढ़ रहा है,

उसके एक और जंगल की आग, दूसरी और तेज धार वाली बहती नदी, और सामने उत्पन्न सभी संकट, अब वो क्या करे?

लेकिन फिर उसने अपना ध्यान अपने नव आगंतुक को जन्म देने की और केन्द्रित कर दिया .
फिर जो हुआ वो आश्चर्य जनक था .

कडकडाती बिजली की चमक से शिकारी की आँखों के सामने अँधेरा छा गया, और उसके हाथो से तीर चल गया और सीधे भूखे शेर को जा लगा . बादलो से तेज वर्षा होने लगी और जंगल की आग धीरे धीरे बुझ गयी. इसी बीच हिरणी ने एक स्वस्थ शावक को जन्म दिया .

ऐसा हमारी जिन्दगी मे भी होता है, जब हम चारो और से समस्याओं से घिर जाते है, नकारात्मक विचार हमारे दिमाग को जकड लेते है, कोई संभावना दिखाई नहीं देती , हमें कोई एक उपाय करना होता है.,
उस समय कुछ विचार बहुत ही नकारात्मक होते है, जो हमें चिंता ग्रस्त कर कुछ सोचने समझने लायक नहीं छोड़ते .
ऐसे मे हमें उस हिरणी से ये शिक्षा मिलती है की हमें अपनी प्राथमिकता की और देखना चाहिए, जिस प्रकार हिरणी ने सभी नकारात्मक परिस्तिथियाँ उत्पन्न होने पर भी अपनी प्राथमिकता "प्रसव "पर ध्यान केन्द्रित किया, जो उसकी पहली प्राथमिकता थी.
बाकी तो मौत या जिन्दगी कुछ भी उसके हाथ मे था ही नहीं, और उसकी कोई भी क्रिया या प्रतिक्रिया उसकी और गर्भस्थ बच्चे की जान ले सकती थी
उसी प्रकार हमें भी अपनी प्राथमिकता की और ही ध्यान देना चाहिए .
हम अपने आप से सवाल करें,
हमारा उद्देश्य क्या है, हमारा फोकस क्या है ?,
हमारा विश्वास, हमारी आशा कहाँ है,
ऐसे ही मझधार मे फंसने पर हमें अपने इश्वर को याद करना चाहिए ,
उस पर विश्वास करना चाहिए जो की हमारे ह्रदय मे ही बसा हुआ है .
जो हमारा सच्चा रखवाला और साथी है

Contributed by: Sh. Ajay Singh Chahal, State Informatics Officer, NIC HP State Centre, Shimla


Once there was a farmer in a village. He used to bring drinking water from a pond distant from his home. For this purpose he used two buckets tied with two ends of a rod. One of the buckets had tiny hole in the bottom and the other one was in quite good condition. While carrying the water from pond the water used to leak out from the bucket with a hole and the level of water reduced to half till farmer reached the home. It happened daily and in this way farmer used to get one and half bucket of water.

After such daily routine the bucket in good condition felt proud and used to tell the bucket with hole that she has no leakage and hence more beneficial to farmer. By such daily remarks the older bucket felt inferior.

The bucket with hole was fed up of her life. One day on the way from pond, she told farmer that “I am not a good bucket I have tiny hole in the bottom, the water gets leaked out and you get only half of the bucket when you reach your home”.

In reply farmer told the bucket with hole that “I always know about it, but have you ever noticed that there is lots of greenery and flowers on the field adjoining the path of your side, but not on the other side? so I use to sow the seeds of plants and flowers on field of your side and the water leaking out irrigated those seeds adequately. Only because of this fact I am able to offer flowers to my God for last two years. If there would not be such thing in you which you treat as imperfection then there is no possibility of such greenery and beauty in our surroundings.

Contributed by: Sh. Anuj Dhangar, Scientific Officer, NIC District Centre, Lahaul Spiti

रोहित और मोहित बड़े शरारती बच्चे थे, दोनों 5th स्टैण्डर्ड के स्टूडेंट थे और एक साथ ही स्कूल आया-जाया करते थे।

एक दिन जब स्कूल की छुट्टी हो गयी तब मोहित ने रोहित से कहा, “ दोस्त, मेरे दिमाग में एक आईडिया है?”

“बताओ-बताओ…क्या आईडिया है?”, रोहित ने एक्साईटेड होते हुए पूछा।
मोहित- “वो देखो, सामने तीन बकरियां चर रही हैं।”
रोहित- “ तो! इनसे हमे क्या लेना-देना है?”
मोहित-” हम आज सबसे अंत में स्कूल से निकलेंगे और जाने से पहले इन बकरियों को पकड़ कर स्कूल में छोड़ देंगे, कल जब स्कूल खुलेगा तब सभी इन्हें खोजने में अपना समय बर्वाद करेगे और हमें पढाई नहीं करनी पड़ेगी…”
रोहित- “पर इतनी बड़ी बकरियां खोजना कोई कठिन काम थोड़े ही है, कुछ ही समय में ये मिल जायेंगी और फिर सबकुछ नार्मल हो जाएगा….”
मोहित- “हाहाहा…यही तो बात है, वे बकरियां आसानी से नहीं ढूंढ पायेंगे, बस तुम देखते जाओ मैं क्या करता हूँ!”
.. इसके बाद दोनों दोस्त छुट्टी के बाद भी पढ़ायी के बहाने अपने क्लास में बैठे रहे और जब सभी लोग चले गए तो ये तीनो बकरियों को पकड़ कर क्लास के अन्दर ले आये।
अन्दर लाकर दोनों दोस्तों ने बकरियों की पीठ पर काले रंग का गोला बना दिया। इसके बाद मोहित बोला, “अब मैं इन बकरियों पे नंबर डाल देता हूँ।, और उसने सफेद रंग से नंबर लिखने शुरू किये-

पहली बकरी पे नंबर 1
दूसरी पे नंबर 2
और तीसरी पे नंबर 4
“ये क्या? तुमने तीसरी बकरी पे नंबर 4 क्यों डाल दिया?”, रोहित ने आश्चर्य से पूछा।
मोहित हंसते हुए बोला, “ दोस्त यही तो मेरा आईडिया है, अब कल देखना सभी तीसरी नंबर की बकरी ढूँढने में पूरा दिन निकाल देंगे…और वो कभी मिलेगी ही नहीं…”

.. अगले दिन दोनों दोस्त समय से कुछ पहले ही स्कूल पहुँच गए।
थोड़ी ही देर में स्कूल के अन्दर बकरियों के होने का शोर मच गया।
कोई चिल्ला रहा था, “ चार बकरियां हैं, पहले, दुसरे और चौथे नंबर की बकरियां तो आसानी से मिल गयीं…बस तीसरे नंबर वाली को ढूँढना बाकी है।”
स्कूल का सारा स्टाफ तीसरे नंबर की बकरी ढूढने में लगा गया…एक-एक क्लास में टीचर गए अच्छे से तालाशी ली। कुछ खोजू वीर स्कूल की छतों पर भी बकरी ढूंढते देखे गए… कई सीनियर बच्चों को भी इस काम में लगा दिया गया।

.. तीसरी बकरी ढूँढने का बहुत प्रयास किया गया….पर बकरी तब तो मिलती जब वो होती…बकरी तो थी ही नहीं!
आज सभी परेशान थे पर रोहित और मोहित इतने खुश पहले कभी नहीं हुए थे। आज उन्होंने अपनी चालाकी से एक बकरी अदृश्य कर दी थी।
*दोस्तों, इस कहानी को पढ़कर चेहरे पे हलकी सी मुस्कान आना स्वाभाविक है। पर इस मुस्कान के साथ-साथ हमें इसमें छिपे सन्देश को भी ज़रूर समझना चाहिए। तीसरी बकरी, दरअसल वो चीजें हैं जिन्हें खोजने के लिए हम बेचैन हैं पर वो हमें कभी मिलती ही नहीं….क्योंकि वे reality में होती ही नहीं!*

.. हम ऐसी लाइफ चाहते हैं जो सम्पन हो, जिसमे कोई विवाद ही ना हो…. जो की असंभव है !
हम ऐसा जीवन साथी चाहते हैं जो हमें पूरी तरह समझे जिसके साथ कभी हमारी अनबन ना हो…..जो की असंभव है!
हम ऐसी नौकरी या बिजनेस चाहते हैं, जिसमे हमेशा सबकुछ एकदम लाभ में चलता रहे…जो की असंभव है!

क्या ज़रूरी है कि हर वक़्त किसी चीज के लिए परेशान रहा जाए? ये भी तो हो सकता है कि हमारी लाइफ में जो कुछ भी है वही हमारे जीवन की समस्याओं को सुलझाने लिए पर्याप्त हो….ये भी तो हो सकता है कि जिस तीसरी चीज की हम तलाश कर रहे हैं वो हकीकत में हो ही ना….और हम पहले से ही पूर्ण हों!

Contributed by: Sh. Gurpreet Singh, Scientific Technical Assistant, NIC District Centre, Lahaul - Spiti

एक बूढ़ा कारपेंटर अपने काम के लिए काफी जाना जाता था , उसके बनाये लकड़ी के घर दूर -दूर तक प्रसिद्द थे . पर अब बूढा हो जाने के कारण उसने सोचा कि बाकी की ज़िन्दगी आराम से गुजारी जाए और वह अगले दिन सुबह-सुबह अपने मालिक के पास पहुंचा और बोला , ” ठेकेदार साहब , मैंने बरसों आपकी सेवा की है पर अब मैं बाकी का समय आराम से पूजा-पाठ में बिताना चाहता हूँ , कृपया मुझे काम छोड़ने की अनुमति दें . “

ठेकेदार कारपेंटर को बहुत मानता था , इसलिए उसे ये सुनकर थोडा दुःख हुआ पर वो कारपेंटर को निराश नहीं करना चाहता था , उसने कहा , ” आप यहाँ के सबसे अनुभवी व्यक्ति हैं , आपकी कमी यहाँ कोई नहीं पूरी कर पायेगा लेकिन मैं आपसे निवेदन करता हूँ कि जाने से पहले एक आखिरी काम करते जाइये .”

“जी , क्या काम करना है ?” , कारपेंटर ने पूछा .

“मैं चाहता हूँ कि आप जाते -जाते हमारे लिए एक और लकड़ी का घर तैयार कर दीजिये .” , ठेकेदार घर बनाने के लिए ज़रूरी पैसे देते हुए बोला .
कारपेंटर इस काम के लिए तैयार हो गया . उसने अगले दिन से ही घर बनाना शुरू कर दिया , पर ये जान कर कि ये उसका आखिरी काम है और इसके बाद उसे और कुछ नहीं करना होगा वो थोड़ा ढीला पड़ गया . पहले जहाँ वह बड़ी सावधानी से लकड़ियाँ चुनता और काटता था अब बस काम चालाऊ तरीके से ये सब करने लगा . कुछ एक हफ्तों में घर तैयार हो गया और वो ठेकेदार के पास पहुंचा , ” ठेकेदार साहब , मैंने घर तैयार कर लिया है , अब तो मैं काम छोड़ कर जा सकता हूँ ?”
ठेकेदार बोला ” हाँ , आप बिलकुल जा सकते हैं लेकिन अब आपको अपने पुराने छोटे से घर में जाने की ज़रुरत नहीं है , क्योंकि इस बार जो घर आपने बनाया है वो आपकी बरसों की मेहनत का इनाम है; जाइये अपने परिवार के साथ उसमे खुशहाली से रहिये !”

कारपेंटर यह सुनकर स्तब्ध रह गया , वह मन ही मन सोचने लगा , “कहाँ मैंने दूसरों के लिए एक से बढ़ कर एक घर बनाये और अपने घर को ही इतने घटिया तरीके से बना बैठा …क़ाश मैंने ये घर भी बाकी घरों की तरह ही बनाया होता .”

दोस्तों, कब आपका कौन सा काम किस तरह आपको affect कर सकता है ये बताना मुश्किल है. ये भी समझने की ज़रुरत है कि हमारा काम हमारी पहचान बना भी सकता है और बिगाड़ भी सकता है. इसलिए हमारी कोशिश होनी चाहिए कि हम हर एक काम अपनी best of abilities के साथ करें फिर चाहे वो हमारा आखिरी काम ही क्यों न हो!

Contributed by: Sh. Anuj Dhangar, Scientific Officer, NIC District Centre, Lahaul Spiti

किसी दूर गाँव में एक धोबी रहता था। धोबी रोज लोगों के घर-घर जाता और लोगों के गंदे कपड़े धोने के लिए लेकर जाता था। धोबी के पास एक गधा था जिस पर वो कपड़े लादकर लाया और ले जाया करता था। गधा अब काफी बूढ़ा हो चुका था इसलिए वह काफी कमजोर भी हो गया था।

एक दिन ऐसे ही कड़ी दोपहर में धोबी कपड़े लादकर ले जा रहा था। गर्मी की वजह से गधे और धोबी दोनों का बुरा हाल था। अचानक गधे का पैर लड़खड़ाया और बेचारा गधा एक बड़े गढ्ढे में जा गिरा। गधा बेचारा कमजोर तो था ही, फिर भी उसने पूरी ताकत लगायी लेकिन गड्ढे से बाहर नहीं निकल पाया। धोबी ने भी अपनी तरफ से पूरा प्रयास किया लेकिन गढ्ढा गहरा होने की वजह से गधा बाहर नहीं निकल पा रहा था।

अब तो गधा डर से बुरी तरह चिल्लाने लगा। धोबी भी जब प्रयास करते करते थक गया तो उसने सोचा ये गधा बूढ़ा हो चुका है और अब किसी काम का भी नहीं है तो इसको निकालने से कोई फायदा नहीं है, क्यों ना गड्ढे को मिटटी से भरकर इस गधे को यहीं दफना दिया जाये। यही सोचकर धोबी ने गाँव के लोगों को आवाज लगायी। सारे लोग अपना फावड़ा लेकर आ गए। सब मिलकर जल्दी जल्दी गड्ढे में मिटटी डालने लगे।

पहले तो गधे को कुछ समझ में नहीं आया कि ये क्या हो रहा है? लेकिन जब उसे अहसास हुआ कि ये लोग उसे दफ़नाने वाले हैं तो उसकी आखों में आँसू आ गए। कुछ देर तक गधा चिल्लाता रहा, बाद में उसने चिल्लाना भी बंद कर दिया। सब लोग और तेजी से गड्ढे में मिटटी डालने लगे थोड़ी देर बाद धोबी ने जब गड्ढे में झाँककर देखा तो वो हैरान रह गया। गधा वहाँ कुछ विचित्र सी हरकत कर रहा था। जैसे ही कोई गधे की पीठ पर मिटटी डालता, गधा तुरंत अपनी पीठ हिलाकर मिटटी नीचे गड्ढे में गिरा देता और खुद एक कदम ऊपर हो जाता। यही क्रम चलता रहा जैसे ही गधे की पीठ पे मिटटी डाली जाती वो पीठ हिलाकर मिटटी नीचे गिरा देता और खुद उस मिटटी पे चढ़कर एक कदम ऊपर हो जाता। धीरे धीरे गढ्ढा मिटटी से भर गया और गधा उछलता हुआ गड्ढे से बाहर निकल आया और सारे लोग गधे को हैरानी से देखते रह गए।

दोस्तों ये कहानी हमें बहुत बड़ी सीख देती है। जिंदगी भी कई बार हमारे ऊपर मिटटी डालती है, कई बार बहुत बड़ी बड़ी परेशानियाँ हम लोगों के सामने आती हैं। लेकिन जिंदगी के कुएं से निकलने का यही तरीका है अपनी परेशानी रूपी मिटटी को गिराते जाइये और हर बार एक कदम ऊपर हो जाइये। आपकी समस्या कितनी भी बड़ी क्यों न हो? गड्ढा कितना भी गहरा क्यों ना हो? घबराइये मत, हर परेशानी को मिटटी की तरह हिलाकर नीचे गिराते जाइये फिर देखिये आप हर समस्या से बाहर निकल आएंगे।
Contributed by: Raajesh Upadhyay, Directorate of Fisheries, Bilaspur, Himachal Pradesh,


एक बार एक बिज़नेसमैन जो कल तक एक सफल उद्धोगपति था अचानक किसी परेशानी से उसका बिज़नेस डूब गया और उस पर बैंक का कर्ज़ा भी हो गया और अब उसके पास कोई चारा नहीं बचा था| बैंक और सारे लेनदार उसे लगातार पैसे की भरपाई के लिए बोल रहे थे| अब तो उसे अपनी जिंदगी अंधेरे में नज़र आ रही थी| एक बार सुबह पार्क में घूमते हुए उसे एक बूढ़ा व्यक्ति दिखाई दिया| वो बूढ़ा उसके पास आया और उसे परेशान देखकर उससे परेशानी का कारण पूछा |

बिज़नेसमैन ने सारी परेशानी व्रद्ध को बताई, बूढ़े व्यक्ति ने अपनी जेब से अपनी चेकबुक निकाली और एक चेक साइन कर के उसको दिया और कहा कि इससे तुम अपना बिज़नेस फिर से शुरू कर सकते हो और एक साल बाद मुझे ठीक इसी जगह इसी समय मिलना और मुझे मेरे पैसे वापस कर देना | यह कहते हुए बूढ़ा वहाँ से दूर चला गया| बिज़नेसमैन ने जब अपने हाथ में रखे चेक पर नज़र डाली तो वह हैरान रह गया क्यूंकी वो बूढ़ा कोई मामूली व्यक्ति नहीं था उस चेक पर सर वारेन बफ़ेट(एक मशहूर अमेरिकन उद्धयोगपति) के साइन थे और चेक की रकम थी $500,000| उसको खुद पर यकीन नहीं हुआ कि खुद वारेन बफ़ेट ने आकर मेरी परेशानी हल की है | फिर उसने सोचा की ये रकम बैंक और लेनदारों को देने की बजाए वो पहले अपने बिज़नेस को बचाने के लिए संघर्ष करेगा और इमरजेंसी में ही उस चेक का प्रयोग करेगा |

अब तो बिना किसी डर के वह फिर से अपना बिज़नेस बचाने में जुट गया क्यूंकी उसे पता था कि अगर कोई परेशानी होगी तो मैं चेक की मदद से बच सकता हूँ | बस फिर क्या था उसने जी तोड़ मेहनत की और एक बार फिर से अपने बिज़नेस को वापस खड़ा कर दिया | आज उस बात को एक साल पूरा हो चुका था और वह चेक भी आज तक ऐसे ही सही सलामत था |

अपना वादा पूरा करने के लिए बिज़नेसमैन जब पार्क में गया तो उसे वहाँ वही बूढ़ा व्यक्ति दिखाई दिया| जैसे ही वह उसके पास आया अचानक एक नर्स पीछे से आई और व्रद्ध को पकड़ के ले गयी और कहा कि वह एक पागलख़ाने से भागा हुआ पागल है जो खुद को हमेशा वारेन बफ़ेट बताता है, यह कहकर नर्स व्रद्ध को ले गयी|
अब वह आदमी एक दम आश्चर्य में था क्यूकी वह बूढ़ा ना तो बफ़ेट था और ना ही वह चेक असली था, जिस पर उसे इतना विश्वास था | उसकी आँखों में आँसू छलक आए क्यूकी उसने आज एक नकली रकम की वजह से जागे अपने आत्मविश्वास से आज सफलता प्राप्त कर ली थी जबकि वह पैसा कुछ था ही नहीं |

“दुनियाँ मे कुछ भी असंभव नहीं है बस अपना आत्मविश्वश जगाने की ज़रूरत है और एक बार जब आप आत्मविश्वास से भरपूर हो जाएँगे तो दुनियाँ की कोई बंदिश आपको नहीं रोक सकती |”

Contributed by: Mukesh Kumar, Scientist-B, NIC HP State Centre, Himachal Pradesh,


प्राचीन यूनान में सुकरात को महाज्ञानी माना जाता था.एक दिन उनकी जान पहचान का एक व्यक्ति उनसे मिला और बोला, ” क्या आप जानते हैं मैंने आपके एक दोस्त के बारे में क्या सुना?”

“एक मिनट रुको,” सुकरात ने कहा, ” तुम्हारे कुछ बताने से पहले मैं चाहता हूँ कि तुम एक छोटा सा टेस्ट पास करो. इसे ट्रिपल फ़िल्टर टेस्ट कहते हैं.”

“ट्रिपल फ़िल्टर ?”

” हाँ, सही सुना तुमने.”, सुकरात ने बोलना जारी रखा.” इससे पहले की तुम मेरे दोस्त के बारे कुछ बताओ , अच्छा होगा कि हम कुछ समय लें और जो तुम कहने जा रहे हो उसे फ़िल्टर कर लें. मैं इसे ट्रिपल फ़िल्टर टेस्ट कहता हूँ. पहला फ़िल्टर है सत्य.

क्या तुम पूरी तरह आश्वस्त हो कि जो तुम कहने जा रहे हो वो सत्य है?

“नहीं”, व्यक्ति बोला, ” दरअसल मैंने ये किसी से सुना है और ….”

” ठीक है”, सुकरात ने कहा. ” तो तुम विश्वास के साथ नहीं कह सकते कि ये सत्य है या असत्य. चलो अब दूसरा फ़िल्टर ट्राई करते हैं, अच्छाई का फ़िल्टर. ये बताओ कि जो बात तुम मेरे दोस्त के बारे में कहने जा रहे हो क्या वो कुछ अच्छा है ?”

” नहीं , बल्कि ये तो इसके उलट…..”

“तो”, सुकरात ने कहा , ” तुम मुझे कुछ बुरा बताने वाले हो , लेकिन तुम आश्वस्त नहीं हो कि वो सत्य है. कोई बात नहीं, तुम अभी भी टेस्ट पास कर सकते हो, क्योंकि अभी भी एक फ़िल्टर बचा हुआ है: उपयोगिता का फ़िल्टर. मेरे दोस्त के बारे में जो तू बताने वाले हो क्या वो मेरे लिए उपयोगी है?” “हम्म्म…. नहीं , कुछ ख़ास नहीं…”

“अच्छा,” सुकरात ने अपनी बात पूरी की , ” यदि जो तुम बताने वाले हो वो ना सत्य है , ना अच्छा और ना ही उपयोगी तो उसे सुनने का क्या लाभ?” और ये कहते हुए वो अपने काम में व्यस्त हो गए.



Contributed by: Vandana Sankhayan, Scientist-B, NIC HP State Centre, Himachal Pradesh,


एक आदमी हाथियों के पास से गुजरते हुए उन्हें देखकर अचानक रूक गया। वह इस बात से उलझन में था कि इतने विशाल और ताकतवर जीव के सिर्फ आगे के एक पैर में एक पत्ली रस्सी बांध कर कैसे रखा जा सकता है! न कोई लोहे की जंजीर, न कोई पिंजरा। जबकि उसे इस बंधन से मुक्त होने में शायद एक सेकेंड का वक्त भी न लगे और वे इसे एक झटके में तोड़कर आज़ाद हो जाए।

वह आदमी सोचने लगा - ‘इसका कारण, कुछ तो जरूर होगा? जो वो ऐसा नहीं करते।‘

उसने वही हाथियों के प्रशिक्षक को खड़ा पाया और उससे पूछा - ‘ऐसा क्यों है कि ये जानवर यहां इतनी शांति से खड़े है और यहां से भागने या अपने को आज़ाद करने का प्रयास नहीं कर रहे हैं?’

तब प्रशिक्षक ने कहा - ‘जब ये बहुत छोटे थे, उस समय भी हम इसी तरह की रस्सी का प्रयोग इन्हें बांधे रखने के लिए करते थे। वह उस समय इससे छुटकारा पाना के लिए बहुत प्रयास करते लेकिन वह सफल नहीं हो पाते। उस वक्त इतनी बड़ी रस्सी उन्हें बांधे रखने के लिए काफी थी लेकिन वे जैसे-जैसे बड़े होने लगे उनके दिमाग में यह बात बैठ गई कि वह कितनी भी कोशिश कर ले वह इस बंधन को तोड़ नहीं सकते और यही मनोदशा बड़े होने पर भी उनमें बनी रहती हैं। इसलिए वह कभी इसे तोड़ने का प्रयास नहीं करते। क्योंकि उन्हें अब भी यही लगता है कि वे इससे छुटकारा नहीं पा सकते।

प्रशिक्षक कि ये बाते सुनकर वह आदमी बहुत ही आश्चर्यचकित हुआ और मन ही मन सोचने लगा ये जानवर इस बंधन से किसी भी वक्त छुटकारा पा सकते हैं लेकिन अपने पुर्वग्रह की वजह से वह ऐसा नहीं कर पाते!

हम में से कितने ही लोग पूरी जीवन हाथियों कि ही भांति यह सोचते हुए बिता देते है कि हम कुछ नहीं कर सकते, और वो सिर्फ इसलिए की हम अपने पहले के एक प्रयास में असफल हो गए रहते है। पहली बार किसी काम में असफल होना स्वभाविक है। किसी काम में सफल न होना सीखने कि एक प्रक्रिया। हमें अपनी पूर्व कि गलतियों से सीखकर आगे बढ़ना चाहिए। हाथी की तरह हार मानकर प्रयास करना ही नहीं छोड़ देना चाहिए।



Contributed by: AShish Sharma, Scientist-B, NIC HP State Centre, Himachal Pradesh,


राम के बड़े भाई ने एक बार उसे एक महंगी गाडी गिफ्ट में दी। एक दिन बाहर निकलने पर राम ने देखा कि चौदह पंद्रह साल का एक गरीब लड़का गाडी के अन्दर झाँक रहा था। राम को आते देख कर वह पीछे हट गया।

फिर धीरे से उसने राम से पूछा।

अंकल, क्या यह गाडी आपकी है ? राम बहुत अच्छे मूड में था। वह बोला, हाँ,

मेरे भाई ने यह कार मुझे गिफ्ट में दी है।

लड़का हैरान होकर बोला, अच्छा !

यानी, आपको इस गाडी का कोई पैसा नही देना पडा। राम सोचने लगा कि अब यह बोलेगा, काश, मेरे पास भी ऐसा कोई भाई होता। लेकिन इसके वजाय वह लड़का बोला,

काश मैं भी एक दिन ऐसा भाई बन पाऊँ । राम उसकी बातों से काफी खुश था। राम ने उस लड़के से पूछा, चलो, तुम्हे तुम्हारे घर तक छोड़ दूँ। लड़का ख़ुशी से खिलखिला उठा। दोनों गाडी में बैठ गए। जब गाडी आगे बड़ी, तो लड़के ने कहा ,

क्या आप मेरे घर के सामने थोड़ी देर रूक सकते है ?

राम ने मुहं बनाते हुए सोचा,

गरीब लोगो की बस यही बात मुझे पसंद नही है। मैंने ज़रा से उससे पूछ क्या लिया, अब यह मुझ पर ही सवारी करेगा। मुझे पता है अब ये जाकर पुरे मुह्ह्ले वालों को अपना रौब दिखाएगा। और बोलेगा, देख, कितना बड़ा साहब मुझे घर तक छोड़ने आया है।

राम कुछ जवाब देता, उससे पहले ही वह लड़का बोल पडा, बस वो जो सीढ़ी दिख रही है न, वही गाडी रोक देना। आप यही रुकना। मैं बस दो मिनट में आया। वह लड़का दौड़ता हुआ सीढ़ियों के ऊपर चला गया। कुछ ही पल बाद राम ने देखा कि वह लड़का सीढ़ियों से नीचे चला आ रहा है , लेकिन बहुत धीरे-धीरे संभलकर उतरते हुए। राम ने देखा कि उसने एक और लड़के को अपनी गोद में उठा रखा है, जिसके दोनों पैर नही है। सीढ़ियों से उतर कर अंतिम सीढ़ी पर अपने भाई को बिठाकर वह अपने भाई से बोला, देखा जैसा मैंने तुमको ऊपर बताई थी, ठीक वैसी ही है ना। अंकल के बड़े भाई ने उन्हें गिफ्ट में दी है। एक दिन मैं भी तुम्हे ऐसी ही गाडी गिफ्ट में दूंगा। फिर तुम्हे पुरे शहर की सैर कराने लेकर जाउंगा। और वह जो बाज़ार है ना, जहां से मैं तुम्हारे लिए कपडे लेकर आता हूँ, वह भी तुम्हे दिखाउंगा।

राम को अहसास हुआ जैसा मैं सोच रहा था। वह फिर एक बार गलत निकला।गाडी से उतर कर वह दोनों लड़कों से बोला, क्यों न हम आज ही सैर पर चले ? दोनों लड़के के चेहरे ख़ुशी से चमक रहे थे। वह उनके लिए एक यादगार दिन था। राम को भी उनका साथ अच्छा लगा।

सीख : दोस्तों कई बार हम बिना सोचे समझे किसी अन्य के बारे में गलत धारणा बना लेते है जो की बिलकुल ही गलत है। बिना सोचे समझे किसी अन्य के बारे में धारणा बनाना अहंकार का सूचक है।



Contributed by: Parveen Sharma, Scientist-B, NIC HP State Centre, Himachal Pradesh,